देश में कोरोना ने पकड़ी रफ्तार, 24 घंटे में केस 1 लाख के पार ।

Share this news

देश में कोरोना वायरस की रफ्तार बेकाबू हो गई है और नई लहर सबसे बड़ी चुनौती बनकर सामने आई है. देश में पहली बार 24 घंटे के भीतर एक लाख से अधिक कोरोना वायरस के केस दर्ज किए गए हैं. सोमवार को भारत में कोरोना वायरस के 1.03 लाख मामले सामने आए हैं. ये आंकड़ा राज्यों के द्वारा जारी आंकड़े के मुताबिक है, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय का आंकड़ा आना बाकी है. देश में इससे पहले 16 सितंबर, 2020 को सबसे अधिक मामले सामने आए थे, तब एक दिन में 97,894 केस दर्ज किए गए थे.

भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 1,03,558 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 1,25,89,067 हुई. 478 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 1,65,101 हो गई है. देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 7,41,830 है और डिस्चार्ज हुए मामलों की कुल संख्या 1,16,82,136 है. देश में कुल 7,91,05,163 लोगों को कोरोना वायरस की वैक्सीन लगाई गई है. 

महाराष्ट्र में एक दिन में 222 लोगों की मौत
महाराष्ट्र में कोरोना के केस रिकॉर्ड तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. बीते 24 घंटे में महाराष्ट्र में कोरोना के 57 हजार से ज्यादा मामले आए और 222 लोगों की मौत हुई. आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 57,074 नए मामले सामने आए, जो किसी एक दिन में राज्य में सर्वाधिक संख्या है. महाराष्ट्र में अब तक संक्रमण के कुल 30,10,597 मामले सामने आ चुके हैं, जबकि कुल मृतक संख्या बढ़कर 55,878 तक पहुंच गई है.

मुंबई शहर में रविवार को कोविड-19 के एक दिन में सबसे अधिक 11,206 नये मामले सामने आए. महाराष्ट्र में कोविड के फिलहाल 4,30,503 मरीजों का इलाज जारी है. वहीं, रविवार को 27,508 मरीजों को संक्रमणमुक्त होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई, जिसके साथ ही कुल 25,22,823 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं.

नागपुर में 24 घंटे में 4 हजार से ज्यादा नए मरीज मिले हैं, 62 लोगों ने दम तोड़ दिया. वहीं  पुणे में 6225 नए कोरोना पॉजिटिव मिले और 52 लोगों ने दम तोड़ दिया. जबकि मुंबई में 24 घंटे में 11163 नए पॉजिटिव मिले हैं और 25 लोगों ने दम तोड़ दिया है.

महाराष्ट्र में क्या खुला क्या बंद?
महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में तेजी से बढ़ रहे कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों को देखते हुए सप्ताहांत में शुक्रवार रात 8 बजे से सोमवार सुबह 7 बजे तक लॉकडाउन लागू करने की घोषणा की गई है. इसके अलावा, सप्ताह के सभी दिनों में दिन के वक्त धारा 144 लागू की जाएगी. साथ ही, सोमवार से 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू लागू करने की भी घोषणा की. इसके अलावा कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार की रोकथाम के मद्देनजर निजी कार्यालय, थियेटर और सैलून आदि बंद रखने जैसी कड़ी पाबंदियां भी लागू रहेंगी.

प्राइवेट दफ्तर बंद रहेंगे
आवश्यक सेवाओं से जुड़ी दुकानों, मेडिकल स्टोर एवं किराना दुकानों के अलावा सभी अन्य दुकानें, बाजार और शॉपिंग मॉल 30 अप्रैल तक बंद रहेंगे. ये सभी नए प्रतिबंध सोमवार यानी आज रात 8 बजे से प्रभावी होंगे. बैंकिंग, शेयर बाजार, बीमा, दवा, टेलीकम्युनिकेशन और मेडिक्लेम क्षेत्र को छोड़कर इन प्रतिबंधों के तहत सभी प्राइवेट दफ्तर बंद रहेंगे. प्राइवेट दफ्तरों के लिए ‘घर से काम’(वर्क फ्रॉम होम) लागू करना अनिवार्य है. हालांकि, स्थानीय आपदा प्रबंधन, बिजली विभाग और जलापूर्ति से जुड़े कार्यालयों को प्रतिबंधों से छूट रहेगी.

बीच एवं सार्वजनिक स्थल रात में बंद रहेंगे
कोविड-19 प्रबंधन से जुड़े विभागों को छोड़कर बाकी सभी सरकारी दफ्तरों को क्षमता से 50 प्रतिशत से ही काम करने की इजाजत होगी. साथ ही आंगतुकों को सरकारी कार्यालयों में प्रवेश की इजाजत नहीं दी जाएगी. हालांकि, आवश्यक सेवाओं को रात्रिकालीन कर्फ्यू में छूट दी गई है. बीच (समुद्र तट) एवं सभी सार्वजनिक स्थल रात आठ बजे से सुबह सात बजे तक बंद रहेंगे. अगर स्थानीय प्रशासन को लगता है कि दिन के समय में इन स्थानों पर भीड़ एकत्र हो रही है तो इन्हें बंद रखा जा सकता है.

यात्रा में भी पाबंदी!
सार्वजनिक एवं निजी परिवहन सेवाओं का संचालन जारी रहेगा. टैक्सी और आटोरिक्शा वाले अपनी क्षमता की 50 फीसदी सवारियां ही बैठा सकते हैं. बसों में सवारियों को खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति नहीं होगी और मास्क पहनना अनिवार्य होगा. साथ ही बस चालक, कंडक्टर और अन्य कर्मचारियों के पास कोविड-19 की नेगेटिव जांच रिपोर्ट होनी चाहिए.

बयान के मुताबिक, थियेटर, सिनेमाघर, वीडियो पार्लर, मल्टीप्लेक्स, क्लब, स्वीमिंग पूल, खेल परिसर आदि मनोरंजन स्थल बंद रहेंगे. वहीं, धार्मिक स्थल श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेंगे. हालांकि, वहां धार्मिक अनुष्ठान जारी रहेंगे. इसी तरह, बार, रेस्तरां, छोटी दुकानें केवल सामान पैक करा कर ले जाने के लिए और पार्सल के लिए खुली रहेंगी.

दिल्ली में चार हजार से अधिक कोरोना केस
दिल्ली में रविवार को कोरोना वायरस के 4,033 नए मामले आए, जो इस वर्ष की सर्वाधिक दैनिक वृद्धि है, जबकि संक्रमण दर बढ़कर 4.64 प्रतिशत हो गई. बीमारी के कारण 21 और मरीजों की मौत हो गई, जो एक जनवरी के बाद से मौतों का सबसे अधिक आंकड़ा है. राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 6,76,414 हो गए और मृतकों की संख्या बढ़कर 11,081 हो गई. पिछली बार शहर में कोविड-19 के 4,000 से अधिक मामले 4 दिसंबर को आए थे जब 4,067 लोगों के संक्रमित होने का पता चला था. यहां अब उपचाराधीन मरीजों की संख्या एक दिन पहले के 12,647 से बढ़कर 13,982 हो गई.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!
Qtv India

FREE
VIEW