नेपाल विमान हादसा : ब्लैक बॉक्स और सभी 22 लोगों के शव बरामद, मृतकों में 4 भारतीय भी शामिल

Share this news

नेपाल में रविवार को लापता हुए तारा एयरलाइन्स के दुर्घटनाग्रस्त विमान में सवार सभी 22 लोगों के शव बरामद हो गए हैं। बता दें कि, विमान में चार भारतीयों समेत कुल 22 लोग सवार थे और यह पोखरा से उड़ान भरने के कुछ मिनट बाद ही पर्वतीय मुस्तांग जिले में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

नेपाल सेना के प्रवक्ता ब्रिगेडियर नारायण सिल्वाल ने ट्वीट किया, आखिरी शव भी बरामद कर लिया गया है। दुर्घटनास्थल से बाकी 12 शवों को काठमांडू लाने की व्यवस्था की जा रही है। नेपाल के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण (सीएएएन) के प्रवक्ता देवचंद्र लाल कर्ण ने कहा, खोज एवं बचाव दल ने आज (मंगलवार को) सुबह एक और शव बरामद किया। सभी 22 शव घटनास्थल से बरामद कर लिए गए हैं।
महाराष्ट्र का रहने वाला था भारतीय परिवार
सीएएएन के प्रवक्ता ने कहा, विमान हादसे में मारे गए 10 लोगों के शव घटनास्थल से आधार शिविर लाए गए हैं। दो शव अब भी घटनास्थल पर हैं। खराब मौसम के कारण अभियान रोका गया है। मौसम के साफ होते ही उन शवों को भी आधार शिविर लाया जाएगा। उन्होंने कहा कि अब हादसे में चार भारतीय नागरिकों, चालक दल के तीन सदस्यों सहित सभी 22 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो गई है। विमानन कंपनी की ओर से जारी यात्रियों की सूची के अनुसार, विमान में चार भारतीय मौजूद थे, जिनकी पहचान अशोक कुमार त्रिपाठी, उनकी पत्नी वैभवी बांडेकर (त्रिपाठी) और बच्चों-धनुष त्रिपाठी व ऋतिका त्रिपाठी के तौर पर हुई है। यह परिवार महाराष्ट्र के ठाणे जिले का रहने वाला था।

कल 10 शवों को लाया गया था काठमांडू
इससे पहले सोमवार को 10 शवों को काठमांडू लाया गया था और महाराजगंज के त्रिभुवन यूनिवर्सिटी टीचिंग हॉस्पिटल में उनका पोस्टमार्टम किया जाएगा। नेपाल के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण (सीएएएन) ने सोमवार रात एक बयान जारी कर बताया था कि, दुर्घटनास्थल से 21 शव बरामद कर लिए गए हैं। गौरतलब है कि ‘तारा एअर’ का ‘ट्विन ओट्टर 9एन-एईटी’ विमान रविवार सुबह पोखरा से उड़ान भरने के कुछ समय बाद नेपाल के पहाड़ी इलाके में लापता हो गया था। कनाडा निर्मित इस विमान में चार भारतीय, दो जर्मन और 13 नेपाली नागरिकों सहित कुल 22 लोग सवार थे। यह विमान पोखरा से मध्य नेपाल स्थित मशहूर पर्यटक शहर जोमसोम की ओर जा रहा था।
राष्ट्रपति देवी भंडारी और प्रधानमंत्री देउबा ने जताया शोक
राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी और प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा ने विमान हादसे में चालक दल के सदस्यों और यात्रियों की मौत पर शोक जताया है। सरकार ने विमान हादसे के कारण का पता लगाने के लिए वरिष्ठ वैमानिक इंजीनियर रतीश चंद्र लाल सुमन की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय जांच आयोग का गठन किया है। सीएएएन के महानिदेशक प्रदीप अधिकारी ने सोमवार को संसद की अंतरराष्ट्रीय समिति की बैठक में बताया कि, प्रारंभिक जांच में पता चला है कि विमान खराब मौसम के कारण बाईं ओर मुड़ने के बजाय दाईं ओर मुड़ गया और दुर्घटनाग्रस्त हो गया। सीएएएन ने सोमवार को एक बयान जारी कर कहा था कि मुस्तांग जिले के थसांग-2 में 14,500 फुट की ऊंचाई पर विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »
error: Content is protected !!