भारतीय सिनेमा के इतिहास पर कार्यक्रम आज NCZCC में शाम 4 बजे से-पहली बोलती हिंदी फिल्म होगी प्रदर्शित।

Share this news

प्रयागराज: भारतीय सिनेमा के 90 साल का इतिहास गीतों के माध्यम से जानना काफी रोचक होगा। यह आयाेजन संगीत समूह कोरस की ओर से आज उत्तर मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र में होगा।

कोरस की यह ऐसी कल्पना है जिसमें सिनेमा के सभी युगों के चर्चित फिल्मी गीत समाहित कर स्वर्णिम गाथा बताई जाएगी।

1931 में प्रदर्शित पहली बोलती फिल्म आलमआरा के गीत ‘दे दे खुदा के नाम पर’ की पेशकश उसी तरह उनकी पूरे पोशाक में की जाएगी। इस गीत को अभिनेता और गायक वजीर मोहम्मद खान ने गाया था।

संस्था के संयोजक पीयूष टंडन ने बताया कि यह कोरस का वार्षिक संगीत कार्यक्रम है। कहा कि भारतीय सिनेमा के टाकी युग से होते हुए फिल्म उद्योग की पहली महिला संगीत निर्देशक शकुंतला देवी की फिल्म अछूत कन्या के गीत भी कोरस के कलाकार प्रस्तुत करेंगे।

जोहराबाई, केएल सहगल, नूरजहां, शमशाद बेगम द्वारा गए गए गीत भी प्रस्तुत किए जाएंगे। राजकपूर, नर्गिस, गुरुदत्त जैसे अभिनेताओं के गीतों के वीडिया क्लिप भी प्रदर्शित किए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »
error: Content is protected !!