नवरात्रि के पहले दिन मंदिरों में भीड़, कोरोना नियमों की उड़ीं धज्जियां

Share this news

देश भर में कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच आज से चैत्र नवरात्र की शुरुआत हो गई. हिंदू समाज में नवरात्रों का बड़ा महत्व है. चैत्र नवरात्रि में मां दुर्गा के 9 स्वरूपों की पूजा की जाती है. इन दिनों पूरा माहौल भक्तिमय हो जाता है. नवरात्रि में पहले दिन मंदिरों में मां दुर्गा के दर्शन के लिए भक्तों की भारी भीड़ मंदिरों में देखने को मिली.

राजधानी दिल्ली में कई बड़े मंदिरों को कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए बंद कर दिया गया है. तो दिल्ली के ऐतिहासिक सिद्ध पीठ कालकाजी मंदिर में कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए भक्तों को दर्शन करने दिए जा रहे हैं.
कालकाजी मंदिर में दर्शन करने पहुंचे भक्त
हालांकि, मंदिर प्रशासन की ओर से मंदिर में किसी को भी एंट्री नहीं दी जा रही है ना ही फूल-प्रसाद भी मंदिर में नही लिया जा रहा है. कालकाजी मंदिर के पुजारी सुनील के मुताबिक सरकार की ओर से जो कोरोना को लेकर नियम बनाये गए है उसको फॉलो किया जा रहा है. सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सैनिटाइजेशन की भी व्यवस्था मंदिर प्रशासन की तरफ से की गई है.
मंदिर प्रशासन के साथ-साथ सिविल डिफेंस की वॉलिंटियर्स दिल्ली पुलिस के जवानों को भी तैनात किया गया है. ताकि मंदिरों में दर्शन करने के लिए आ श्रद्धालुओं को सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही दर्शन करने की इजाजत दी जाए. वहीं, कोरोना के चलते दिल्ली के बड़े मंदिरों में से एक झंडेवालान को फिलहाल भक्तों के लिए बंद कर दिया गया है.

प्रयागराज चैत्र नवरात्र आज से शुरू हो गया है, लेकिन इस बार के नवरात्र पर कोरोना वायरस का साया साफ़ तौर पर नज़र आ रहा है। शक्तिपीठों और दूसरे देवी मंदिरों में आज पहले दिन देवी मां का श्रृंगार शैलपुत्री स्वरूप में किया गया।

प्रयागराज में शक्तिपीठ अलोप शंकरी मंदिर में भी आज फूलों से देवी मां का विशेष श्रृंगार कर भव्य आरती की गई। इस खास मौके पर देशवासियों के कोरोना से सुरक्षित रहने की प्रार्थना की गई।

ज़्यादातर भक्तों ने आज घर पर ही पूजा अर्चना की और उनसे कोरोना वायरस का प्रकोप कम करने की गुहार लगाई। अलोप शंकरी ऐसी शक्तिपीठ है जहां कोई मूर्ति नहीं है और लोग एक पालने की पूजा करते हैं।

मिर्ज़ापुर-विंध्याचल में नवरात्र मेला में लगी भारी भीड़
वहीं इसके विपरीत मिर्ज़ापुर-विंध्याचल में नवरात्र मेले में लगी भारी भीड़ देखने को मिली. कोरोना संक्रमण काल मे भी मां विंध्यवानसी के दर्शन-पूजन के लिए बड़ी संख्या में दर्शनार्थी पहुंचे हैं. जिला प्रशासन की सारी व्यवस्था फेल होती दिखाई दी.

(भाषा इनपुट से)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »
error: Content is protected !!