पश्चिम उत्तर प्रदेश के माथे मुकुट बनने जा रहा नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट, जेवरः नन्दी

Share this news

जेवर हवाई अड्डे के लिए नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड को हस्तांतरित हुई 1,334 हेक्टेयर भूमि

माननीय मुख्यमंत्री जी की मौजूदगी में जेवर एयरपोर्ट के लिए एनआईएएल एवं विकासकर्ता वाईआईएपीएल के बीच लाइसेंस मेमोरेंडम पर हुए हस्ताक्षर

दुनिया के विशालतम हवाईअड्डों में से एक नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा, जेवर के निर्माण का काम जल्द ही शुरू होने जा रहा है। शनिवार को लोक भवन में उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी की मौजूदगी में जेवर एयरपोर्ट के लिए राज्य सरकार की ज्वाइंट वेंचर कम्पनी नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एनआईएएल) एवं विकासकर्ता ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी की एसपीवी, यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्रा.लि. के बीच लाइसेंस मेमोरेंडम पर हस्ताक्षर किए गए।


शनिवार को लोकभवन में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पहले फेज के लिए निर्धारित 1,334 हेक्टेयर भूमि बिना किसी विवाद के किसानों से अधिग्रहीत हुई है। जेवर एयरपोर्ट की स्थापना से उत्तर प्रदेश में औद्योगिक अवस्थापना का संरचनात्मक विकास होगा, जिससे रोजगार एवं निवेश के अवसर बढ़ेंगे।

विनिर्माण एवं निर्यात को प्रोत्साहन मिलने के साथ-साथ हवाई यातायात सुगम होगा। इससे पर्यटन के क्षेत्र में भी अप्रत्याशित वृद्धि की संभावना है।


उत्तर प्रदेश के नागरिक उड्डयन मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी ने कहा कि जेवर एयरपोर्ट, जो अन्य पार्टियों के लिए अभी तक बोतल का जिन्न था, केवल चुनाव के समय बाहर आता था, वही जेवर एयरपोर्ट आज पश्चिम उत्तर प्रदेश के माथे मुकुट बनने जा रहा है। अभी कुछ दिन पहले ही माननीय मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में अर्जित भूमि का लीज एवं शेय होल्डर एग्रीमेंट किया गया।

लाइसेंस मेमोरेंडम कार्यक्रम के बाद अब एयरपोर्ट निर्माण का कार्य जल्द ही शुरू होगा। मंत्री नन्दी ने कहा कि हवाई अड्डा सामरिक महत्व रखता है। जेवर एयरपोर्ट यूपी और भारत के विकास के लिए एक आर्थिक इंजन साबित होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »
error: Content is protected !!