यूपी एसटीएफ ने पकड़ा 2.5 करोड़ का गांजा

Share this news

उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स ने अन्तर्राज्यीय स्तर पर अवैध मादक पदार्थ की तस्करी करने वाले गिरोह के 5 तस्कर गिरफ्तार कर लिए हैं. एसटीएफ द्वारा जब्त किए गए गांजे की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में ढाई करोड़ रुपए बताई जा रही है. यूपी एसटीएफ ने 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है जिसमें मोहसिन, वसीम, आकिल, मुक़ीम और नसीम शामिल हैं. ये सभी आरोपी मुरादाबाद के रहने वाले हैं. पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से एक ट्रक और एक स्कॉर्पियो कार बरामद की है. इन सभी आरोपियों को बनारस से गिरफ्तार किया गया है.

यूपी एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश ने बताया कि उत्तर प्रदेश में लगातार अलग-अलग इलाकों से ड्रग्स की तस्करी की सूचनाएं मिल रही थीं, जिसके बाद डिप्टी एसपी डॉ. राकेश कुमार मिश्रा की अगुवाई में इन तस्करों की गिरफ्तारी के लिए अभियान चलाया गया. एसटीएफ की टीम को सूचना मिली कि आंध्र प्रदेश के रास्ते उत्तर प्रदेश के अलग-अलग इलाकों में भारी मात्रा में ड्रग्स सप्लाई किया जा रहा है.

एसटीएफ की टीम को खुफिया जानकारी मिली कि आन्ध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम से ट्रक नं० यूपी 21 सीएन-5495 में बनी कैविटी में छिपाकर अवैध मादक पदार्थ (गाँजा) लाया जा रहा है, जो यूपी में कही सप्लाई दिया जाना है, उस ट्रक के साथ आगे-आगे एक स्कार्पियो न० डीएल 04सी एनबी 2731 भी चल रही है, जिसमें बैठे लोग इसी गिरोह के हैं, वह लोग रास्ते के बारे में सतर्कता के लिए चलते हैं.

इस सूचना पर स्पेशल टास्क फोर्स ने नॉरकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के अधिकारियों को साथ लेकर थाना मिर्जामुराद क्षेत्र में पहुंचकर उक्त ट्रक एवं स्कार्पियो का इन्तजार करने लगे, कुछ देर बार एक स्कार्पियो न० डीएल 04सी एनबी 2731 आती हुई दिखाई दी, जिसे रोका गया तब तक उसके पीछे ट्रक नं० यूपी 21- सीएन-5495 भी आ गया. इस ट्रक की तलाशी ली गयी तो उसमें बनी कैविटी के बीच में गांजा छिपाकर रखा गया था, तत्पश्चात स्कार्पियो की भी तलाशी ली गयी, तो उसमें भी गांजा छिपाकर रखा गया था. इसके बाद ट्रक एवं स्कार्पियों में बैठे लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया एवं दोनों गाड़ियों को अवैध मादक पदार्थ (गाँजा) सहित कब्जे में ले लिया गया.

पूछताछ पर गिरफ्तार अभियुक्तों ने बताया कि यह गांजा विशाखापट्टनम निवासी मंगू दादा नाम के एक व्यक्ति ने लोड कराया था, जिसे यूपी में कहीं सप्लाई करना था, यह अवैध मादक पदार्थ (गांजा) मोतिहारी, बिहार के मनोज चौधरी जिसका एक घर कुशीनगर (उ०प्र०) में भी है, द्वारा उत्तर प्रदेश के विभिन्न जनपदों में सप्लाई करने हेतु मंगाया गया था. इस गांजे को आन्ध्र प्रदेश से यूपी पहुंचाने का प्रति के लिए प्रति चक्कर 2.50 लाख रुपये चालक को मिलते थे तथा अन्य लोगों को 50 हजार रुपये के हिसाब से पैसे मिलते थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!
Qtv India

FREE
VIEW