यूपी : गौरक्षकों ने मुस्लिम युवक को पीटा, पुलिस ने उसी के खिलाफ दर्ज कर लिया केस

Share this news

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले में मीट ट्रांसपोर्ट और बेचने का काम करने वाले एक मुस्लिम युवक के साथ कुछ लोगों के समूह ने मारपीट की. इस समूह का नेतृत्व कर रहा शख्स खुद को ‘गौ रक्षक’ बता रहा था. यूपी पुलिस ने पीड़ित के भाई की शिकायत के आधार पर मारपीट करने वालों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. हालांकि, आरोपियों ने भी पीड़ित मोहम्मद शाकीर के खिलाफ काउंटर केस दर्ज करवाया है. काउंटर केस में ‘जानवर की हत्या करने’, ‘संक्रमण फैलाने की संभावना वाला कार्य करना’ और ‘कोविड लॉकडाउन दिशानिर्देशों का उल्लंघन’ से संबंधित आईपीसी की धाराओं को शामिल किया गया है.

इलाके के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी डीएसपी ने एनडीटीवी को बताया कि शाकीर को गिरफ्तार किया गया था, लेकिन उन्हें जेल नहीं भेजा गया, क्योंकि उनके खिलाफ लगाई गई धाराएं जमानती हैं. शाकीर के परिजनों ने एनडीटीवी से बात करते हुए पुष्टि की है कि अभी उनका घर पर इलाज किया जा रहा है.

जिन लोगों के समूह ने शाकीर के साथ मारपीट की, उनका नेतृत्व करने वाले मनोज ठाकुर को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है.

मुरादाबाद पुलिस प्रमुख प्रभाकर चौधरी ने एक बयान में कहा, ‘हमें एक वीडियो मिला था, जिसमें एक मीट विक्रेता के साथ मारपीट की जा रही है. हमने उस मामले में केस दर्ज कर लिया है. इस मामले में पांच से छह आरोपी हैं, जिनका नाम लिखा गया है. हम लोग उन्हें खोज कर रहे हैं और उन्हें जल्द गिरफ्तार करेंगे.

पुलिस को दी गई लिखित शिकायत में शाकीर के भाई ने बताया कि जब वह एक स्कूटर पर भैंस का 50 किलो मीट लेकर आ रहा था था कि मनोज ठाकुर और उसके साथियों ने घेर लिया. साथ ही उसमें कहा है कि आरोपियों ने पहले शाकीर से 50 हजार रुपए मांगे थे, उसके बाद उन्होंने उसके साथ मारपीट की. साथ ही पुलिस में जाने की धमकी भी दी.

शाकीर को ठाकुर और अन्य लोगों ने घेर रखा है. इसके बाद ठाकुर शाकीर को लाठी से तब तक मारता रहता है, जब तक वह जमीन पर नहीं गिर गया. एक वीडियो में शाकीर को कुछ लोगों ने पकड़ा हुआ है और वह ठाकुर से बहस कर रहा है और छोड़ने के लिए कह रहा है.

जहां पुलिस मनोज ठाकुर को ढूंढ़ रही है, वहीं उसने एक अज्ञात जगह से बयान जारी किया है, जो जिले के स्थानीय पत्रकारों को भेजा गया है. उसने कहा है, ‘हमने इस युवक को रोकने की कोशिश की, लेकिन उसने हमें उसके स्कूटर से टक्कर मारी. एक आदमी को लाठी से मारना अपराध है, लेकिन किसी को मारने की कोशिश करना अपराध नहीं है? मैं गौहत्या रोकने की कोशिश कर रहा हूं, लेकिन पुलिस अब मुझे धमका रही है. प्रशासन मुझे एक पुलिस टीम दे, मैं इस पूरे रैकेट का खुलासा कर दूंगा.’

इस मामले पर कार्रवाई की मांग करते हुए मुरादाबाद से सांसद एसटी हसन ने बयान जारी करते हुए कहा, ‘मुझे पता चला है कि वह एक फैक्ट्री से मीट लेकर आ रहा था और उसके पास इसकी रसीद भी है. उसके बाद भी उसके साथ मारपीट की गई. मैं कहना चाहता हूं कि गौहत्या के नाम पर यह नफरत रुकनी चाहिए. यह भगवान का शुक्र है कि उस आदमी को जान से नहीं मारा गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!
Qtv India

FREE
VIEW