मंत्री नन्दी ने केसरवानी समाज को पिछड़ा वर्ग में शामिल करने की मांग की

Share this news

मंत्री नन्दी ने केसरवानी समाज को पिछड़ा वर्ग में शामिल करने की मांग की

मंत्री नन्दी के नेतृत्व में पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री से मिला केसरवानी समाज का प्रतिनिधिमंडल

पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री ने हर संभव मदद का दिया आश्वासन

उत्तर प्रदेश सरकार के औद्योगिक विकास मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी के नेतृत्व में केसरवानी समाज के प्रतिनिधिमंडल ने आज प्रयागराज सर्किट हाउस में राज्य मंत्री पिछड़ा वर्ग कल्याण दिव्यांगजन सशक्तिकरण मंत्री नरेंद्र कश्यप से मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने ज्ञापन सौंपते हुए आर्थिक, शैक्षिक व अन्य क्षेत्रों में काफी पिछड़े केसरवानी समाज की बहुत पुरानी मांग को दोहराते हुए पिछड़ा वर्ग में शामिल करने की मांग रखी।

जिस समाज में लोग कम शिक्षित हैं, जिनकी आय कम है, सरकारी नौकरियों में जिनकी संख्या नगण्य है और करीब 5 प्रतिशत ही कृमि लेयर और 95 प्रतिशत रोज कमाने खाने वाले लोग हैं उनको आरक्षण मिलना चाहिए। देश की राष्ट्रीय नीति के तहत आरक्षण मिलना चाहिए। पिछली सरकारों ने केसरवानी समाज को आरक्षण का लाभ देने की आंग को गंभीरता से नहीं लिया।

जिस पर मंत्री नरेंद्र कश्यप ने कहा कि आरक्षण से संबंधित डॉक्यूमेंट विभाग में प्रस्तुत करें, जिसके आधार पर पता किया जाएगा कि पिछली सरकारों में केसरवानी समाज को आरक्षण में शामिल करने के लिए कहां तक प्रक्रिया पूरी की गई है और बाधा कहां है। मंत्री नरेंद्र कश्यप ने कहा कि जल्द ही पिछड़ा वर्ग आयोग का गठन होने की संभावना है।

जिसके बाद आरक्षण की प्रक्रिया पर विचार किया जाएगा।
अनिल कुमार गुप्ता अन्नू भैया ने कहा कि पूरे प्रदेश ही नहीं देश में केसरवानी समाज के लोग हैं। वहीं प्रयागराज में यह संख्या काफी ज्यादा है। आजादी के पहले और बाद से लेकर अब तक उत्तर प्रदेश में केसरवानी समाज के नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी के अलावा कोई भी विधायक मंत्री नहीं बना है, जिससे यह प्रतीत होता है कि केसरवानी समाज सभी क्षेत्रों में कितना पीछे है। तमाम दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए केसरवानी समाज को आरक्षण का लाभ मिलना चाहिए। ताकि आने वाली पीढ़ियों को लाभ मिल सके।

इस अवसर पर अनिल कुमार गुप्ता अन्नू भैया, रामजी केसरवानी, कृष्णमोहन गुप्ता, कृष्ण भगवान केसरवानी, सुभाष केसरवानी आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »
error: Content is protected !!