कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण की रोकथाम हेतु मंडलायुक्त ने सभी सरकारी अस्पतालों के चीफ मेडिकल सुपरिंटेंडेंटस के साथ बैठक की।

Share this news

माइल्ड सिम्टम्स/कम सीरियस कोविड-19 मरीजों का इलाज अपने स्तर पर करने एवं विषम परिस्थितियों में ही उन्हें एल3 अस्पताल रेफर करने को कहा।

आपातकाल स्थिति में आई ट्रिपल सी पर कॉल कर रहे व्यक्तियों की बेहतर मदद हेतु नई कार्य योजना तैयार करने एवं 102 तथा 108 से संबंधित एंबुलेंस को छोड़कर कम से कम 30 एंबुलेंस का पूल तैयार करने के भी निर्देश दिए।

कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण की रोकथाम हेतु विभिन्न सरकारी चिकित्सालयों द्वारा की गई व्यवस्थाओं की समीक्षा के दृष्टिगत मंडलायुक्त श्री संजय गोयल ने आज कार्यालय स्थित गांधी सभागार में सभी सरकारी अस्पतालों के चीफ मेडिकल सुपरिंटेंडेंट एवं अन्य संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक की जिसमें हाल ही में की गई कोविड-19 संबंधित मॉक ड्रिल के परिणामों पर चर्चा करते हुए उन्होंने हर चिकित्सालय से उपस्थित सुपरिंटेंडेंट से आने वाले कोविड मरीजों के इलाज हेतु एक कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिए।

बैठक में मंडलायुक्त ने यह भी स्पष्ट किया कि प्रत्येक अस्पताल माइल्ड सिम्टम्स/कम सीरियस कोविड-19 मरीजों का इलाज अपने स्तर पर ही करेगा एवं विषम परिस्थितियों में ही उन्हें एल3 कोविड-19 अस्पताल भेजा जाएगा। उन्होंने कहा अनावश्यक केस रेफरल करने से स्वरूप रानी अस्पताल में भीड़ लग जाती है जिसकी वजह से कई बार गंभीर रूप से कोविड संक्रमितों के लिए बेड नहीं बचते हैं अतः माइल्ड सिम्टम्स/कम सीरियस मरीजों का इलाज सभी चिकित्सालय अपने स्तर पर ही करें। एक्सपर्ट्स के मुताबिक कोविड-19 वायरस के नए वेरिएंट ओमीक्रोन से ग्रसित व्यक्तियों में माइल्ड सिम्टम्स ही परिलक्षित हो रहे हैं।

सिम्टम्स वाले मरीजों के अस्पताल आने पर एवं उनमें कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि होने तक सभी को अलग ट्रायज वर्ल्ड में रखने के भी निर्देश बैठक में दिए गए हैं जिसके दृष्टिगत सभी चिकित्सालयों को अनिवार्य रूप से एक कॉविड ट्रायज वर्ल्ड सक्रिय करने को कहा गया है। साथ ही पिछली कोविड-19 वेव से सीख लेते हुए भर्ती किए जा रहे मरीजों के परिजनों को दिन में दो बार भर्ती मरीजों की अद्यतन स्थिति के बारे में जानकारी देने की व्यवस्था बनाने के भी निर्देश दिए गए हैं।

इसी क्रम में मंडलायुक्त ने सभी अस्पतालों में बनाए गए ऑक्सीजन प्लांट्स की पूर्ण रूप से सक्रियता सुनिश्चित करने को भी कहा है। इसके दृष्टिगत सभी सुपरिंटेंडेंटस को ऑक्सीजन प्लांट की सक्रियता संबंधित जो भी अनिवार्य सर्टिफिकेट लेने हैं उन्हें शीघ्र लेने को कहा गया है। इसके अतिरिक्त आपातकाल स्थिति में आई ट्रिपल सी पर कॉल कर रहे व्यक्तियों कि कैसे बेहतर तरीके से मदद की जा सकती इसके दृष्टिगत एक नई कार्य योजना तैयार करने एवं 102 तथा 108 से संबंधित एंबुलेंस को छोड़कर कम से कम 30 एंबुलेंस का पूल तैयार करने के भी निर्देश मंडलायुक्त द्वारा दिए गए हैं जिससे आवश्यकता पड़ने पर अधिक से अधिक व्यक्तियों की मदद की जा सके।

बैठक में चिकित्सालयों द्वारा ऑक्सीजन सिलेंडर की रिफिलिंग के दृष्टिगत जो भी टेंडर फॉर्मेलिटी पेंडिंग है उसे भी शीघ्र पूर्ण करने एवं सभी विभागीय अनुमोदन शीघ्र लेने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अतिरिक्त शहर के विभिन्न स्थानों में सेंपलिंग बढ़ाने तथा सैनिटाइजेशन के कार्य को और सक्रियता से करने के भी निर्देश दिए गए हैं।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्री शिपू गिरी, एडिशनल कमिश्नर पुष्पराज सिंह, प्रिंसिपल स्वरूपरानी मेडिकल कॉलेज श्री एस पी सिंह समेत अन्य अधिकारी भी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »
error: Content is protected !!