प्रयागराज हिंसा के आरोपी बनाए गए जावेद मोहम्मद के घर से मिले असलहे।

Share this news

प्रयागराज : उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में बीते दिनों भड़की हिंसा मामले में कार्रवाई जारी है. पुलिस ने पूरे मामले में कार्रवाई करते हुए 95 नामजद और 5000 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है.हिंसा मामले में वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया के प्रदेश महासचिव जावेद अहमद अका जावेद पंप को गिरफ्तार किया गया था. पुलिस ने दावा किया है कि जावेद के घर से अवैध हथियार बरामद किए गए हैं. हिंसा के बाद पुलिसिया कार्रवाई के साथ ही रविवार को प्रयागराज विकास प्राधिकरण (पीडीएस) ने उनके  खिलाफ कार्रवाई की है. उनके आलीशान घर को ध्वस्त कर दिया गया है. अवैध निर्माण करने के आरोप में उक्त कार्रवाई की गई है. कार्रवाई से पहले जावेद के घर के बाहर पीडीएस की ओर से नोटिस चिपकाया गया था.

पूरे घटनाक्रम पर एसपी अजय कुमार ने कहा है कि जावेद मोहम्मद उर्फ जावेद पंप 10 तारीख को हुई हिंसा में शामिल था. उसके मकान पर पीडीए की तरफ से कार्रवाई की गयी है. उसके मकान से कुछ आपत्तिजनक समान बरामद हुए हैं. 12 बोर की और 315 बोर की अवैध पिस्टल बरामद की गयी है. साथ ही कुछ पोस्टर्स और बैनर भी बरामद हुए हैं इन सभी दस्तावेजों की जांच की जाएगी.

पूरे मामले पर प्रयागराज के डीएम संजय खत्री ने कहा है कि जावेद मोहम्मद के घर पर नियमानुसार जिला प्रशासन और पीडीए द्वारा कार्रवाई की गई है  कार्रवाई से पहले यह पाया गया था कि कि जावेद मोहम्मद का मकान नियमों के विरुद्ध बनवाया गया था. इस वजह से आज पीडीए द्वारा कार्रवाई करते हुए ध्वस्तीकरण का कार्य किया गया है. जिन-जिन लोगों के मकान पीडीए के मानकों के मुताबिक नहीं है उन सभी पर कार्रवाई होगी. 

पीडीएस की नोटिस में कहा गया, ” इस बाबत नोटिस जारी कर आपके यहां चस्पा कर सूचित किया गया था कि 9 जून तक खुद से उक्त स्थल को ध्वस्त करके सूचित करें. लेकिन आपने वो कार्य नहीं किया. लिहाजा 12 जून को 11:00 बजे तक उक्त स्थल को खाली कर दें, जिससे ध्वस्तीकरण की कार्रवाई हो सके.” 

घरवालों ने घर खाली नहीं किया

गौरतलब है कि नोटिस चिपकाने के बावजूद घरवालों ने घर खाली नहीं किया था. ना ही शनिवार की सुबह से घर का कोई सदस्य बाहर निकला था. ऐसे में बड़ी संख्या पुलिस बल के साथ पीडीएस की टीम मौके पर पहुंची और घर से लोगों को बाहर निकाल कर ध्वस्तिकरण की कार्रवाई की. इस दौरान किसी प्रकार के विधि व्यवस्था की स्थिति उत्पन्न ना हो, इस बाबत महिला पुलिस बल की भी तैनाती की गई थी. पहले एक बुलडोजर से घर ध्वस्त किया दा रहा था. बाद में एक और बुलडोजर बुलाया गया.  

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »
error: Content is protected !!