नारकोटिक्स विंग की कस्टडी में लड़के की मौत, घरवालों का आरोप 50 लाख न देने पर मार डाला

Share this news

मंदसौर जिले की सीमा से लगे प्रतापगढ़ राजस्थान के एक युवक को मंदसौर नारकोटिक्स विंग ने 90 ग्राम ब्राउन शुगर के साथ पकड़ा था. परिजनों का आरोप है कि 21 वर्षीय युवक सोहेल को पकड़ने के बाद नारकोटिक्स विंग ने उसके परिजनों से संपर्क किया था और 50 लाख रुपए देकर मामला रफा-दफा करने की बात कही थी, परिजनों के मुताबिक उनके पास पैसों की कोई व्यवस्था नहीं थी और अगले दिन यानी शनिवार के दिन मिलने को कहा था लेकिन सुबह ही नारकोटिक्स विंग की ओर से सोहेल के भाई के पास फोन आया कि तुम्हारे भाई की मौत हो गई है जिला अस्पताल आ जाओ.

राजस्थान के प्रतापगढ़ जिले में असावता गांव के 21 वर्षीय सोहेल की मौत की खबर जैसे ही उनके परिजनों को लगी सैकड़ों लोग मंदसौर के जिला अस्पताल में इकट्ठा हो गए हैं. मृतक सोहेल के भाई मुराद ने बताया कि उसका भाई सोहेल कल जुम्मे की नमाज पढ़कर दोपहर 2:00 बजे निकला था, घर नहीं आया तो मैंने 3:00 बजे उससे फोन लगाया तो उसने बताया कि मंदसौर नारकोटिक्स ने उसे पकड़ लिया है, मेरी अधिकारी से बात हुई तो उन्होंने कहा कि 50 लाख दे दो तो मै इसे छोड़ दूंगा. 50 लाख की व्यवस्था मेरे पास थी नहीं तो रात को उन्होंने मेरे भाई को मार डाला, उन्होंने सुबह मुझे फोन किया कि तेरा भाई सांस नहीं ले पा रहा है, अस्पताल में लाए हैं तुम आ जाओ.

उन्होंने कहा था 50 लाख नहीं दिए तो तुम्हारे भाई को एनडीपीएस में फंसा देंगे. मेरे भाई को उन्होंने लॉकअप के अंदर ही मारा उसके हाथ में गहरे निशान साफ दिख रहे हैं, जिससे लग रहा है कि उसे लटका कर मारा है. दायमा जी अधिकारी हैं उन्हीं से मेरी बात हुई थी, मेरे भाई के हाथ पर रस्सियों से बांधने के निशान भी हैं. पुलिस द्वारा मेरे भाई की हत्या की गई है.

इस मामले में मंदसौर एसपी सिद्धार्थ चौधरी ने बताया कि सुबह कंट्रोल रूम पर जिला अस्पताल से जानकारी मिली थी कि एक 21 वर्षीय युवक को मृत अवस्था में लाया गया है. ज्ञात हुआ कि नारकोटिक्स विंग द्वारा उसे 90 ग्राम ब्राउन सुगर के साथ गिरफ्तार किया गया था, जब उसकी तबीयत बिगड़ी तो उसे यहां लाया गया था, यहां उसे मृत घोषित कर दिया गया. इस संबंध में नियमानुसार जांच होगी, न्यायिक जांच के लिए हमने निवेदन किया है. पैनल में पोस्टमार्टम होगा, रुपयों को लेकर जो भी आरोप लगे हैं उनकी भी पूरी जांच की जाएगी.

आपको बता दें मंदसौर जिला अफीम की पैदावार के लिए जाना जाता है और अफीम के कारण या कई और मादक पदार्थ भी बनते हैं. ऐसे में यहां इन मादक पदार्थों को पकड़ने के लिए केंद्रीय नारकोटिक्स दल के अलावा मध्य प्रदेश की नारकोटिक्स विंग भी काम करती हैं. जो ऐसे मामलों में एनडीपीएस की कार्रवाई करती है.

मृतक परिजनों का आरोप भी है कि यह कोई एक मामला नहीं है. ऐसे कई मामले हो चुके हैं जिनमें नारकोटिक्स विंग मादक पदार्थों के केस बनाने के नाम पर कई गरीबों को फंसा चुकी है. फिलहाल 21 वर्ष की सोहेल की मौत का मामला पुलिस जांच में है. जानकारी यह भी मिली है कि कुछ दिनों बाद ही सोहेल की शादी होने वाली थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!
Qtv India

FREE
VIEW